प्रकृति से प्यार का अनोखा जश्न 

पाया लिंचो! यानी शुक्रिया, अरुणाचल प्रदेश के या​जाली गांव से लौटते वक्त एक यही शब्द था, जो हम सब की जुबां पर था। यहां हर साल फरवरी महीने में होने वाले  न्योकुम  फेस्टिवल को इस बार करीब से जानने का जो मौका मिला था। फसल की बुआई से पहले मनाए जाने वाले इस फेस्टिवल में सब कुछ… Continue reading प्रकृति से प्यार का अनोखा जश्न